Introduction

  1. सन 1984 में महाविद्यालय की स्थापना से स्नातक स्तर पर हिंदी विषय व्दितीय भाषा एवं ऐछिक के रुप से आरंभ हुआ ।
  2. स्नातकोत्तर स्तर पर हिंदी सन 1994 में (M.A.,प्रथम, व्दितीय) आरंभ ।
  3. हिंदी विभाग को सत 1999 में "हिंदी शोध केंद्र" की मान्यता प्राप्त हुयी ।

हिंन्दी विभाग की विशेष गतिविधियॉं

स्नातक : स्नातकोत्तर हिंदी विभाग एवं हिंदी शोध केंद्र व्दारा हिन्दी दिवस का आयोजन नियमित रुप से किया जाता है |

स्नातक एवं स्नातकोत्तर हिंदी विभाग की ओर से 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस, 26 जनवरी प्रजातंत्र दिवस और 14 सितंबर हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में हिंन्दी भित्ती पत्रक "ज्ञानोदय" का नियमित प्रकाशन किया जाता है |

हिन्दी दिवस के रुप में डॉ. माधव पंडित बंबई- विश्वविद्यालय, बंबई, डॉ. दीनानाथ फुलवाडकर गंगाखेड, डॉ. वासंती नावंदर हिंदी आचार्य, परभणी, डॉ. बलभीमराज गोरे, औरंगाबाद, प्राचार्य डॉ. सुरेश सदावर्ते, जिंतूर आदि विद्वानो के मार्गदर्शन से छात्रों को लाभान्वित किया गया है |

14 सितंबर "हिन्दी दिवस" 2010 के उपलक्ष्य में डॉ. वासंती नावंदर व्याख्याता के रुप में तथा ज्ञानोपासक महाविद्यालय, परभणी सह-सचिव सौ. संध्याताई दुधगांवकर अध्यक्षा के रुप में उपस्थिति एवं अभ्यासपूर्ण मार्गदर्शन किया |

हिन्दी विभाग ने डॉ. डी.टी. इबतवार "नरेंद्र कोहली के पौराणिक उपन्यासों का अध्ययन" शीर्षक ग्रंथ का प्रकाशन किया है |

डॉ. इबतवार डी.टीय के "साहित्य दर्पन" ग्रंथ का प्रकाशन हिन्दी विभाग की ओर से किया गया |

डॉ. सांगळे एम. व्हि. "केदारनाथसिंह के काव्य का अध्ययन" शीर्षक ग्रंथ का प्रकाशन हिन्दी विभाग की ओर से किया गया |

गायक डॉ. अशोक जोंधळे जी का बहिनाबाई चौधरी के जीवन पट पर आधारित गीतों के कॅसेट का प्रकाशन हिन्दी विभाग की ओर से किया है | 

Strong points of the department

 
  1. Dept. of Hindi U.G. & P.G.
  2. Research Center Hindi (Ph.D.)
  3. Guidence of M.Phil.

Courses Offered (with intake Capacity)

Sr. No

Name of the Course

Duration

Intake Capacity

1

B.A.,B.Com, B.Sc. (UG)

- 120

2

M.A., I, II (PG) - 60

Admission eligibility/criteria/procedure

  1. For UG : As per the guidelines of the SRTMU, Nanded.
  2. For PG  : As per the guidelines of the SRTMU, Nanded.
  3. For Ph.D. :No fixed Criteria - University constantly changes the rules and regulation for admission of Ph.D. Course

Any Other Facilities

  1. Departmental Library
  2. NET, SET, Guidance

Teaching Faculty

Name

Phone & E-mail 

Qualification

Whether recognized

Guide for Ph. D.? if yes intake capacity

Total    

 Ph.D./M.Phil

Awarded

Total enrollment

for Ph. D.

Dr. A.N. Jondhale
(Hindi)
9850634750
This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
M.A.,M.Phil,Ph.D Yes 08 01 Ph.D.
12 M.Phil
08
Dr. M.U. Sangle - M.A.,B.Ed., Ph.D. - - -
Dr. D.T. Ibatwar - M.A.,M.Phil,Ph.D. - - -

Research Project

Year of Sanction

Profiles of Completed Research Projects

Name of the Principal Investigator

Title of the Project

Funding Agency

Duration  Year of complete  Amounts
Dr. A.N. Jondhale बंजारा लोक गीतों का अध्ययन UGC 2 Yrs 2009 2 Years 65,000/-
D.T. Ibawar नरेंद्र कोहलीके महासमर उपन्यास का शिल्प संवंदना UGC 2 Yrs 2009 2 Years 70,000/-

Name of the Students Passed in NET/SET etc. (Last 5 Years)

1. Kendre D.B.

4. Paithane Suresh

2. Lokhande Anand

5. Makegaonkar Praving

3. Awachar R. A.

6. Bhise Datta

7. Gaikwad S.K.

Placement

1. Kendre D.B.

Satav College, Kalamnuri Dist. Hingoli.

2. Dr. Uphady B.B.

Warna College, Aithwade Dist. Sangali

3. Lokhande Anand

(P.G. Teacher) D.S.M. College, Parbhani

4. Awachar R.A.

(P.G. Teacher) D.S.M. College, Parbhani

5. Sakhare S.S.

(P.G. Teacher) D.S.M. College, Parbhani

6. Rethe Vijaymale

P.S.I. (Dept. of Police)

Photogallery

हिन्दी विभाग एवं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित व्दि दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में समन्वय इस पुस्तक का प्रकाशन 2010 हिंदी दिवस प्रमुख अतिथी प्रा. डॉ. सतिश यादव, लातूर, प्राचार्य डॉ. प्रकाश मोरे, अधिष्ठाता डॉ. बी. एस . जाधव, डॉ. अशोक जोंधळे और छात्रगण वॉलपोस्टर का विमोचन करते हुए ।
2012 हिंदी दिवस प्रमुख अतिथि प्रा. डॉ. सतिश यादव, लातूर, प्राचार्य डॉ. प्रकाश मोरे, अधिष्ठाता डॉ. बी.एस. जाधव, डॉ. अशोक जोंधळे छात्रों को मार्गदर्शन करते हुए । 29 मार्च 2010 एम.ए. व्दितीय वर्ष बिदाई समारोह, डॉ. सांगळे, डॉ. जोंधळे, डॉ. इबतवार, प्रा. पुंडगे
14 सितंबर 2010 को हिंदी दिवस के अवसरपर प्रमुख अतिथि के रुप में सौ.डॉ. संध्याताई दुधगावकर, प्राचार्य डॉ. प्रकाश मोरे, विभागध्यक्ष डॉ. अशोक जोंधळे, डॉ. इबतवार सन 2009 - हिंदी दिवस के अवसरपर प्रमुख अतिथि के रुप में प्रा. वासंती नावंदर, सौ. डॉ. संध्याताई दुधगावकर, प्राचार्य डॉ. प्रकाश मोरे और छात्रगण भितिपत्रक का विमोचन करते हुए ।
 
ज्ञानोपासक महाविद्यालय परभणी में हिंदी विभाग व्दारा आयोजीत
एम.ए. व्दितीय वर्ष के छात्रो का बिदाई समारोह में बाएं से प्रा. साखरे, प्रा. पुंडगे, हिंदी विभाग प्रमुख डॉ. अशोक जोंधळे, डॉ. एम. व्ही. सांगळे, डॉ. डी. टी. इबतवार, प्रा. नालटे, प्रा. विद्या व्यास, एवं एम.ए. व्दितीय के छात्र-छात्रऍं
"दलित विमर्श एवं स्त्री विमर्श" पर आयोजीत द्वि दिवसीय हिंदू राष्ट्रीय संगोष्ठीमें ज्ञानोपासक शिक्षणमंडळ के अध्यक्ष एवं सांसद अॅड. गणेशराव दुधगावकर इनका स्वागत करते हुए हिंदी विभागध्यक्ष प्रा. डॉ. अशोक जोंधळे दि. 04 एवं 05 मार्च 2011
   
"दलित विमर्श एवं स्त्री विमर्श" पर आयोजीत द्वि दिवसीय हिंदू राष्ट्रीय संगोष्ठीमें ज्ञानोपासक शिक्षणमंडळ के अध्यक्ष एवं सांसद अॅड. गणेशराव दुधगावकर इनका स्वागत करते हुए हिंदी विभागध्यक्ष प्रा. डॉ. अशोक जोंधळे दि. 04 एवं 05 मार्च 2011  द्वि दिवसीय हिंदी राष्ट्रीय संगोत्री " हिंदी में दलित साहित्य का स्वरुप एवं स्त्री विमर्श " स्त्री विमर्श पर अपने विचार व्यक्त करती डॉ. सौ. संध्याताई दुधगावकर (ज्ञानोपासक संस्था सचिव) संयोजक : यु.जी.सी, तथा हिंदी विभाग ज्ञानोपासक महाविद्यालय, परभणी दि. 04 एवं 05 मार्च 2011 
   
दि. 04 एवं 05 मार्च 2011 द्वि दिवसीय हिंदी राष्ट्रीय संगोष्ठी " दलित विमर्श एवं स्त्री विमर्श " मे. प्रमुखवक्ता डॉ. रविरंजन हैद्राबाद इनका सत्कार करते हुए प्रा. डॉ. दशरथ इबतवार संचलन करते डॉ. मारोती सांगळे  हिंदी विभाग, ज्ञानोपासक महाविद्यालय, परभणी मे. आयोजीत द्विदिवसीय राष्ट्रीय हिंदी संगोष्ठी मे. प्रमुख अतिथी डॉ. सौ. शशी मुदीराज हैद्राबाद विश्वविद्यालय हैद्राबाद इनका सम्मान करते हुए ज्ञानोपासक महाविद्यालय जिंतूर के प्राचार्य डॉ. सुरेश सदावर्ते 
   
ज्ञानोपासक महाविद्यालय परभणी के हिंदी विभाग व्दारा द्विदिवसीय हिंदी राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रमुख अतिथी के रुप में वक्तव्य देते हुए साहित्यिक डॉ. सुर्यनारयण रणसुभे  ज्ञानोपासक महाविद्यालय के वार्षिक स्नेहसंमेलन "ज्ञानोपासक -2012" सांस्कृतिक कार्यक्रम गीत गायन करते हुए हिंदी विभागप्रमुख प्रा.डॉ. अशोक जोंधळे 
सुरभि साहित्य संस्कृति अकादमी खंडवा (म.प्र.) व्दारा आयोजित राष्ट्रीय हिंदी संमेलन मे. "हिंदी राष्ट्र गोरव" पुरस्कार से सम्मानित डॉ. अशोक जोंधळे, हिंदी विभाग प्रमुख ज्ञानोपासक महाविद्यालय परभणी, अतिथि डॉ. रामप्रकाश शर्मा दिल्ली, पवन धुवारत टिकमगड, अकादमी के अध्यक्ष डॉ. जगदिशचंद्र चौरे (खंडवा) 6 जनवरी 2012 
designed by www.scsindia.com